Posts

Showing posts from August, 2018

Dasha system

व्यक्ति की कुण्डली के योग दशाओं में जाकर फल देते है. किसी व्यक्ति की कुण्डली में अगर अनेक राजयोग व धन योग बन रहे है. परन्तु फिर भी वह व्यक्ति साधारण सा जीवन व्यतीत कर रहा है. तो समझ जाना चाहिए. की उस व्यक्ति को धन योग व राज योगों से जुडे ग्रहों की महादशाएं अभी तक नहीं मिली है.

जिस व्यक्ति को केन्द्र व त्रिकोण के स्वामियों की दशाएं सही समय पर मिल जाती है. उस व्यक्ति को जीवन में सरलता से सफलता के दर्शन हो जाते है. क्योकी यह दशाओं का ही खेल है की व्यक्ति राजा से रंक व रंक से राजा बन जाता है.

आईये देखे की कौन से ग्रह व्यक्ति को राजा बनाते है तथा कौन से ग्रह व्यक्ति को रंक बनाते है.
सूर्य शुभ स्थानों का स्वामी: (When Sun is lord of the auspicious houses)

इस समय में व्यक्ति को कठिन कामों में सफलता मिलती है. यह समय व्यक्ति को सरकार विभाव में नौकरी या सम्मान दिला सकता है. व्यक्ति को पर्यटन के क्षेत्र से भी आय की प्राप्ति हो सकती है. इस समय में व्यक्ति मेहनत व लगन से काम करता है. वह उद्धमी व उद्दोगशील रहता है. इस समय में व्यक्ति के कार्य में तेजी होती है. इसलिये उसे सफलता की प्राप्ति होती है.