Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2018

Featured Post

Does the effect of Mangal Dosha get nullified after the age of 28 years?

  Yes ! But there is a complete logic behind this concept, which is would like to share with you in this post with complete examples. Oftentimes it is noted that, any person person having a Mangal Dosha finally got married after 28 years age of life, whereas before this age s/he suffered a lot in getting married. Most interesting this is that, answer of this question is hidden in the Laal Kitab Jyotish. Since every planet remains effective in the specific age group and Laal Kitab tells us how this effectiveness of the planets guides our life. Note: This is not a 35 Saala Chakkar of Laal Kitab, it’s a duration or Miyad of Graha. Here is a list and duration of the planets as follows: Saturn-6yrs Rahu-6yrs Ketu-3yrs Jupiter-6yrs Sun-2yrs Moon-1yr Venus-3yrs Mars-6yrs Mercury-2yrs If you count the years from the top then till up to the Mars you will get the exact 28 years age but this 6 years phase is further divided in to the Mangal

Dasha system

व्यक्ति की कुण्डली के योग दशाओं में जाकर फल देते है. किसी व्यक्ति की कुण्डली में अगर अनेक राजयोग व धन योग बन रहे है. परन्तु फिर भी वह व्यक्ति साधारण सा जीवन व्यतीत कर रहा है. तो समझ जाना चाहिए. की उस व्यक्ति को धन योग व राज योगों से जुडे ग्रहों की महादशाएं अभी तक नहीं मिली है. जिस व्यक्ति को केन्द्र व त्रिकोण के स्वामियों की दशाएं सही समय पर मिल जाती है. उस व्यक्ति को जीवन में सरलता से सफलता के दर्शन हो जाते है. क्योकी यह दशाओं का ही खेल है की व्यक्ति राजा से रंक व रंक से राजा बन जाता है. आईये देखे की कौन से ग्रह व्यक्ति को राजा बनाते है तथा कौन से ग्रह व्यक्ति को रंक बनाते है. सूर्य शुभ स्थानों का स्वामी: (When Sun is lord of the auspicious houses) इस समय में व्यक्ति को कठिन कामों में सफलता मिलती है. यह समय व्यक्ति को सरकार विभाव में नौकरी या सम्मान दिला सकता है. व्यक्ति को पर्यटन के क्षेत्र से भी आय की प्राप्ति हो सकती है. इस समय में व्यक्ति मेहनत व लगन से काम करता है. वह उद्धमी व उद्दोगशील रहता है. इस समय में व्यक्ति के कार्य में तेजी होती है. इसलिये उसे सफलता की प्राप्ति हो